मेन्यू बंद करे

CIBIL Score Kya Hota Hai? सिबिल स्कोर क्या होता है?

नवीनतम अपडेट – जुलाई 26, 2020

Understand what is CIBIL credit score in Hindi, how it impacts your credit profile while availing a fresh credit facility like credit card, loan etc.

किसी भी व्यक्ति या संस्था को विभिन्न प्रकार के लोन या अग्रिम राशि मुहैया करवाने से पहले बैंक और गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियां (NBFC) उसका सिबिल स्कोर (CIBIL Score) या क्रेडिट स्कोर जाँचती हैं। आइये आगे इस आर्टिकल में पढ़ते हैं की सिबिल क्या है ? इसकी कैलकुलेशन कैसे होती है? कितना सिबिल स्कोर ठीक माना जाता है आदि।

CIBIL क्या है? What is CIBIL in Hindi?

सिबिल (CIBIL) की फुल फॉर्म है Credit Information Bureau of India Limited जिसे TransUnion CIBIL Limited के नाम से भी जाना जाता है। यह एक क्रेडिट सुचना कंपनी है अथवा क्रेडिट ब्यूरो है। सिबिल की स्थापना वर्ष 2000 में हुई थी, भारत में संचालित 4 क्रेडिट इनफार्मेशन कम्पनियों में से सिबिल एक मुख्य और सबसे पूरानी क्रेडिट ब्यूरो है।

CIBIL Credit Bureau अपने सिस्टम में Borrower ( क्रेडिट उपभोक्ता ) और Lender ( ऋण दाता ) डेटाबेस को मेन्टेन करता है जिसमे सभी सहभागी बैंक क्रेडिट सर्विस एप्लीकेशन (लोन, क्रेडिट कार्ड आदि) और लोन वापसी (Loan Repayment) की सुचना हर माह प्रदान करते हैं। सिबिल व्यक्तियों और संस्थाओं की प्रोफाइल मेन्टेन करता है और उसमे उनसे जुड़े सभी लोन, क्रेडिट कार्ड का ब्यौरा रखता है।

CIBIL स्कोर कैसे कैलकुलेट होता है?

CIBIL स्कोर की गणना आपके क्रेडिट व्यव्हार के हिसाब से होती है , मसलन आपने पिछले कुछ समय में कितने बैंकों या NBFC  से लोन प्राप्ति के लिए संपर्क किया है? क्या आप अपने चालू लोन या क्रेडिट कार्ड का मसिक भुगतान समय पर कर रहे हैं? या फिर आपके वार्षिक आय की एवज में आप कितना पैसा लोन और क्रेडिट कार्ड कंपनी को चूका रहे हैं ? इन सब कारको को ध्यान में रख कर ही Credit Worthiness  चेक होती है। आपकी आसानी के लिए CIBIL स्कोर को इम्पैक्ट करने वाले मुख्य कारकों को हमने निचे की सूचि में लिखा है।

  • लोन/क्रेडिट एप्लीकेशन की संख्या
  • EMI भुगतान का ट्रैक रिकॉर्ड
  • क्रेडिट यूटिलाइजेशन – अर्थात आमदनी का कितना भाग क़िस्त भुगतान में जा रहा है
  • कहीं कोई पेमेंट डिफ़ॉल्ट या रिकवरी तो नहीं चल रही है

इन सब के समिल्लित स्कोर को कंप्यूटर अलगोरिथम कैलकुलेट कर के 300 से लेकर 900 के बीच का स्कोर प्रदान करती है। सरल शब्दों में जितना अधिक स्कोर होगा उतनी ही आपकी क्रेडिट प्रोफाइल अच्छी मानी जाएगी।

Credit-Score

अच्छा CIBIL स्कोर कैसे मेन्टेन करें? – How to maintain good CIBIL score?

एक अच्छा CIBIL स्कोर 750 पॉइंट्स या उससे अधिक वाला माना जाता है , उपभोक्ताओं को चाहिए की वे सदैव इस बात का ध्यान रखें की इनके क्रेडिट व्यवहार में कोई अनियमितता या त्रुटियां यो नहीं हो रही हैं? यदि आप इन बातों को नज़रअंदाज करते हैं तो आपके CIBIL स्कोर पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता हैं और सम्भवना रहती है की भविष्य में आपको लोन लेते समय समस्या का सामना करना पड़े।

सम्बंधित पोस्ट:  UPI क्या है और कैसे इस्तेमाल होता है? UPI in Hindi

हम निचे कुछ सुझाव लिख रहे हैं जो आपको मोटे तौर पर एक अच्छा क्रेडिट स्कोर करने में मदद करेंगे:

  • आप बिना आवश्यकता के लोन न लें, यदि मित्र रिश्तेदारों से उधार लेने से बात बन सकती हो तो यही ऑप्शन प्रथम रखें
  • एक समय पर बहुत से बैंको में लोन के लिए अप्लाई न करें
  • अपने लोन और क्रेडिट कार्ड की पेमेंट का भुगतान समय से पहले करें
  • जाने अनजाने किसी भी प्रकार के डिफ़ॉल्ट से बचें

CIBIL और क्रेडिट स्कोर से जुड़े सवाल – जवाब

क्या सिबिल स्कोर लोन और क्रेडिट कार्ड लेने से पहले आवश्यक है?

जी हाँ, हर बैंक लोन देने से पहले आवेदक की पात्रता चेक करता है। सिबिल स्कोर उसका एक अहम बिंदु होता है, बैंक अच्छे क्रेडिट स्कोर वालों को आसानी से ऋण दे देते हैं।

क्या CIBIL स्कोर एक बार ख़राब होने के बाद कभी ठीक नहीं होता?

जी ऐसा नहीं है, यदि आप धीरे धीरे अपने सभी लोन नियमित रूप से चुकाने में कामयाब हो जाते हैं तो सिबिल स्कोर भी ठीक हो जाता है।

मैं अपनी CIBIL रिपोर्ट कैसे देख सकता/सकती हूँ?

आप अपना CIBIL रिपोर्ट मुफ्त में Transunion सिबिल की आधिकारिक वेबसाइट से चेक कर सकते हैं। इंटरनेट पर बहुत सी वेबसाइट हैं जो फ्री में सिबिल रिपोर्ट देने का दावा करती हैं, सावधानी के तौर पर आपको आधिकारिक वेबसाइट से ही CIBIL स्कोर चेक करना चाहिए।

क्या CIBIL के अलावा और भी क्रेडिट ब्यूरो हैं ?

जी हाँ, भारत में CIBIL के अलावा 3 अन्य क्रेडिट सुचना कंपनियां भी हैं जो क्रेडिट स्कोर प्रदान करती हैं। जिनके नाम हैं Equifax, CRIF Highmark और Experian.

क्या CIBIL कंपनी या फर्म का क्रेडिट स्कोर भी बताता है?

जी हाँ, सिबिल कंपनियों की क्रेडिट रिपोर्ट भी बनाता है।

निष्कर्ष:

आज के समय में सुचना प्रोधोगिकी का बोलबाला है , इस के चलते क्रेडिट स्कोर बैंक और अन्य ऋणदाताओं के लिए एक अच्छी सुविधा है। साथ ही लोन आवेदक के लिए भी यह एक अच्छा टूल है अपनी क्रेडिट वॉर्थीनेस जानने का। हमे पता रहता है की हमारा क्रेडिट व्यव्हार कैसा है और हमें कहाँ सुधार करने की आवश्यकता है।

इन सब बातों को ध्यान में रखते हुए हमे क्रेडिट सेवाओं का सावधानी से इस्तेमाल करना चाहिए और समय पर लोन का भुगतान करना चाहिए। अन्यथा भविष्य में बैंक हमें या तो लोन देने में आनाकानी करेंगे या फिर महंगी ब्याज दरों पर लोन मुहैया करवाएंगे।

आपको क्रेडिट स्कोर या CIBIL Report से सम्बंधित कोई भी सवाल हों तो निचे कमेंट सेक्शन में लिख कर पूछ सकते हैं। यदि आपको आर्टिकल अच्छा लगा हो तो अपने मित्रो के साथ शेयर करें।

 

Posted in फाइनेंस

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *